India

मेगा हेल्थ कैम्प’ में की 700 से ज़्यादा मरीज़ों की निःशुल्क स्वास्थ्य जांच

रेवाड़ी,(महेंद्र भारती)।
स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लक्ष्य से फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट, गुरुग्राम ने रोटरी क्लब, रेवाड़ी के सहयोग से हरियाणा के रेवाड़ी में एक दिन के मेगा हेल्थ कैम्प का आयोजन किया जो सबसे बड़े सुपर स्पेशियलीटी हेल्थ कैम्पों में एक है। इसमें 1000 से अधिक लोग आए और 700 लोगों ने निःशुल्क स्वास्थ्य सेवाओं और जांचों का लाभ लिया। कैम्प में आए लोगों को फोर्टिस अस्पताल गुरुग्राम के वरिष्ठ चिकित्सकों ने निःशुल्क चिकित्सा परामर्श दिया। आयोजन का मुख्य लक्ष्य लोगों को विभिन्न बीमारियों, इनके निदान, इलाज और रोकथाम के बारे में अधिक जागरूक और जानकार बनाना है। रेवाड़ी के इस विशेष कैम्प में विभिन्न चिकित्सा विभागों के विशेषज्ञ निदेशकों की भागीदारी दिखी और लोगों को नेफ्रोलाॅजी, दिल की बीमारियों, पेशाब की बीमारियों और डायबीटीज़/ इंडोक्राइनोलाॅजी संबंधी बीमारियों के बारे में सलाह दी गई। कैम्प में आए वरिष्ठ चिकित्सकों में शामिल थे – डाॅ. सलिल जैन, निदेशक, नेफ्रोलाॅजी एवं किडनी ट्रांस्प्लांट, डाॅ. रिंकेश बंसल, वरिष्ठ सलाहकार, गैस्ट्रोइंटरोलाॅजी एवं हेपैटोबिलियरी साइंस, डाॅ. रोहित गोयल, हृदय रोग विशेषज्ञ। डाॅ. मयंक भारती, सलहाकार, यूरोलाॅजली, कैंसर विज्ञान एवं रोबोटिक सर्जरी ने मूत्र रोगों के बारे में सलाह दी। डाॅ. मोना सूद, सलाहकार, इंडोक्राइनोलाॅजी ने डायबीटीज़ की समस्याओं के बारे में सलाह दी। हड्डी एवं जाड़ों की समस्याओं के बारे में हड्डी रोग के एसोसिएट कंसल्टेंट डाॅ. गजानंद यादव ने सलाह दी।  
डाॅ. सलिल जैन, निदेशक, नेफ्रोलाॅजी एवं किडनी ट्रांस्प्लांट, फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट, गुरुग्राम ने बताया, ‘‘रेवाड़ी और आसपास के शहरों में लाइफस्टाइल बदलने और डायबीटीज एवं हाइ ब्लड प्रेसर का प्रकोप बढ़ने की वजह से पिछले कुछ वर्षों में किडनी के मरीजों की संख्या बहुत बढ़ी है। डायलेसिस के मामले बढ़ने की यह एक बड़ी वजह है। किडनी के स्वस्थ रहने और सही कार्य करने के लिए इसकी बीमारियों का जल्द पता लगना और रोकथाम के उपाय करना अनिवार्य है। यदि चेहरे या पैर में सूजन दिखे, पेल्सिव (पेड़ू) में दर्द, पेशाब करते हुए दर्द या जलन हो, बार-बार पेशाब आए, पेशाब में झाग बने तो ये नेफ्राइटिस के लक्षण हो सकते हैं। हमारी सभी से अपील है कि इन लक्षणों की अनदेखी नहीं करें और लक्षण नजर आने पर अविलंब चिकित्सा विशेषज्ञ से संपर्क करें। कैम्प में ब्लड प्रेसर, ब्लड सुगर जांचने की निःशुल्क व्यवस्था थी ताकि लोग डायबीटीज़ और हाइपरटेंशन के प्रति अधिक जागरूक बनें क्योंकि ये इस क्षेत्र में होने वाली सबसे आम और चिंताजनक समस्याओं की बड़ी वजह हैं। हेल्थ कैम्प के प्रतिभागियों की ईसीजी, यूरीन डिपाॅजिट टेस्ट और बोन डेंसिटोमेट्री भी की गई।

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close
Close