Politics

भाजपा मांग करती हैं कि आरोप पत्र का उत्तर दो, चर्चा को इधर उधर मत भटकाओ – मनोज तिवारी

नई दिल्ली, 29 दिसंबर। दिल्ली भाजपा अध्यक्ष श्री मनोज तिवारी ने आज आदमी पार्टी पर तीखा प्रहार करते हुये कहा कि दिल्ली की जनता ने आम आदमी पार्टी सरकार के पापों का जवाब आरोप पत्र के द्वारा मांगा हैं। सभी आरोप इसी ओर इंगित करते हैं कि आम आदमी पार्टी की सरकार पर हर मोर्चे पर विफल रही है। आम आदमी पार्टी के मुखिया ने दिल्ली के लोगों से विश्वासघात किया है। उन्होंने ना केवल देशद्रोही नारों का साथ दिया बल्कि 26 जनवरी की परेड रोकने तक का दुस्साहस किया। इसका जवाब न देते हुए आम आदमी पार्टी वास्तविकता से बचना चाहती है और अब कह रही है कि भाजपा ने जो कहा है वो हम करेंगे। भारतीय जनता पार्टी और दिल्ली की जनता आज जवाब चाहती हैं।

श्री तिवारी ने कहा कि इसी समय उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने नगर निगमों से रिपोर्ट कार्ड मांगा है। उन्होंने कहा सिसोदिया जी, ये चुनाव दिल्ली विधानसभा का हैं, नगर निगम का नहीं। जनता को जवाब आज आपको देना हैं, हमें नहीं। इसलिए चर्चा से भागो मत और दिल्ली नगर निगम के बारे में तो उल्टा चोर कोतवाल को डांट रहा हैं। दिल्ली नगर निगम को जनता की सुविधाओं के लिए राज्य सरकार को पैसे देने होते हैं। हर साल तीनों निगमों के 4 हजार करोड़ रुपये प्रति वर्ष दिल्ली सरकार ने नहीं दिए, और दिल्ली नगर निगम का आम आदमी पार्टी सरकार ने गला घोंटा। 5 साल में जनता की सुविधाओं के लिये 20,000 करोड़ रुपये दिल्ली सरकार ने तीनों निगमों को नहीं दिए।

श्री तिवारी ने कहा कि आम आदमी पार्टी सरकार ने दिल्ली नगर निगम की मदद तो की ही नहीं बल्कि दिल्ली नगर निगम ने जो अच्छा काम किया है उसके श्रेय लेने के विज्ञापन दिए और जनता के पैसे बर्बाद किये हैं। हर घर मे जाकर फॉगिंग किया दिल्ली नगर निगम ने, लोगों को डेंगू से कैसे बचना हैं ये सिखाया दिल्ली नगर निगम ने और जिन्होंने फिर भी उल्लंघन किया उनका चालान काटा दिल्ली नगर निगम ने। इन्हीं सब उपायों के कारण दिल्ली में डेंगू कम हुआ है, डेंगू कम करने के 14 करोड़ के विज्ञापन दिए केजरीवाल सरकार ने। आम आदमी पार्टी सरकार का चरित्र है काम करें कोई, टोपी पहने कोई। भाजपा मांग करती हैं कि जनता के आरोप पत्र का उत्तर दो, इस पर चर्चा कोे इधर उधर मत भटकाओ।

Show More

Related Articles

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close
Close