Politics

इस घटना से भारत में नागरिकता कानून का विरोध कर रहे लोगों को सबक लेना चाहिए- तजिन्दर पाल सिंह बग्गा

ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हुई शर्मनाक घटना के विरोध में प्रदेश भाजपा सिख प्रकोष्ठ ने पाकिस्तान दूतावास के बाहर किया रोष प्रदर्शन

नई दिल्ली, 4 जनवरी। दिल्ली भाजपा सिख प्रकोष्ठ की ओर से आज पाकिस्तान दूतावास के बाहर ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हुए हमले के विरोध में रोष प्रदर्शन किया गया। इस प्रदर्शन में राष्ट्रीय मंत्री सरदार आरपी सिंह, प्रदेश उपाध्यक्ष श्री राजीव बब्बर, प्रवक्ता श्री तजिन्दर पाल सिंह बग्गा, सिख प्रकोष्ठ के संयोजक सरदार कुलदीप सिंह, युवा मोर्चा राष्ट्रीय मंत्री श्री इम्प्रीत बक्शी, श्री हंसपाल, श्री मनप्रीत, श्री परमजीत सिंह मक्कड़, श्री जगदीप सिंह कोली सहित प्रमुख लोगों ने हिस्सा लिया।

राष्ट्रीय मंत्री सरदार आर पी सिंह ने कहा कि पाकिस्तान में सालों से अल्पसंख्यक प्रताड़ित होते आए हैं। ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हुई घटना की जितनी भी भर्त्सना की जाए कम है। इससे पता चलता है कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की क्या स्थिति है। जिहादियों ने कल ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हमला किया और सिखों को भगाने और ननकाना साहिब का नाम मिटाने की धमकी भी दी। गुरुद्वारे में जब गोलियां चली तो सिख भाई-बहनों से वहां के पुलिस को संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन 13 घंटे तक भी पुलिस नहीं आई। पाकिस्तान की इमरान खान सरकार ने इस हमले के दोषियों पर कार्रवाई करने के बजाय सोशल मीडिया पर फेक वीडियो शेयर कर रहे हैं। इस घटना ने पाकिस्तान का भयानक चेहरा दिखाया है।

श्री सिंह ने कहा कि इस घटना से भारत में नागरिकता कानून का विरोध कर रहे लोगों को सबक लेना चाहिए क्योंकि नागरिकता कानून उन अल्पसंख्यकों के लिए है जिन्हें अपने धर्म की रक्षा करने के लिए पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश में प्रताड़ित किया जाता है और वो किसी तरह अपने बहन-बेटियों की इज्जत बचाते हुए भारत आकर बसते हैं। भारत ही एकमात्र ऐसा देश है जहां हर धर्म के लोग बिना किसी डर के सुरक्षित रह सकते हैं और वर्तमान में नागरिकता कानून देश की जरूरत है।

प्रदेश उपाध्यक्ष श्री राजीव बब्बर ने कहा कि ननकाना साहिब की घटना बेहद शर्मनाक है, इसकी चैतरफा निंदा की जानी चाहिए। यह सिख समाज की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाली है। नागरिकता कानून का विरोध करने वालों को ये समझना चाहिए कि पाकिस्तान जैसे कट्टर इस्लामिक मुल्क में अल्पसंख्यकों के ऊपर किस तरह से अत्याचार किया जा रहा है। यह घटना उसी का एक उदाहरण है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close
Close